51+ जोश भरने वाली मोटिवेशनल कविताएँ | Motivational Poems In Hindi

5/5 - (3 votes)

नई ऊर्जा और प्रेरणा लक्ष्य पर जोश भरने वाली प्रेरणादायक कविता का संग्रह | Short Motivational Poem In Hindi about success | Motivational Poetry In Hindi | Self Motivation Poem Hindi

इस पोस्ट में हम आपके लिए Top 51+ Best Motivational Poem in Hindi – प्रेरणादायक हिन्दी कविताओं का सुंदर संग्रह लेकर आये है। हम सभी लोगों का जीवन उतार चढ़ाव से भरा हुआ होता है, अपने दिमाग को ऊर्जावान बनाने के लिए हम महापुरूषों की सुविचार और अनमोल वचन और प्रेरण कविताएं पढ़ना पसंद करते हैं। हिंदी भाषा में मोटिवेशनल कविताओं को पढ़ने से आपमें एक नई ऊर्जा का संचार होगा और एक नई प्रेरणा भी मिलेगी। चलिए बिना देरी किए आज के प्रेरणादायक कविताएं को पढ़ते है।

 

motivational poem in hindi

 

हार नहीं होती 

Motivational Poem In Hindi

 

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,

चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।

 

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,

चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।

आखिर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।

 

डुबकियाँ सिंधु में गोताखोर लगाता है,

जा जाकर खाली हाथ लौटकर आता है।

मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,

बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।

 

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, स्वीकार करो,

क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।

 

जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,

संघर्ष का मैदान छोड़ मत भागो तुम।

कुछ किए बिना ही जय-जयकार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।

 

आसमान को जमीन पर लाने वाला चाहिए

Motivational Poems In Hindi

 

जो आसमान को जमीन पर लाना चाहे,

हौसला उनका बुलंद होना चाहिए।

तिनके की तरह बिखरे ना जिनके हौसले,

बाज की तरह ऊंची उड़ान होना चाहिए।

 

गिरे जितनी बार उतनी बार उठ कर फिर चले,

अनवरत लक्ष्य की ओर बढ़ने वाला चाहिए।

सितारे उनको गर्दिश में भी राह दिखाएंगे,

जिगर में काम का जुनून उनके होना चाहिए।

 

आसमान भी जमीन पर एक रोज उतर आएगा,

बस आसमान को जमीन पर लाने वाला चाहिए।

-लोकेश्वरी कश्यप

 

मन के जीते जीत

Motivational Poem

 

बाधाएं तो आती है,

वह आती हैं और आती रहेंगी।

तू डर मत, तू रूक मत,

बस अपना कर्म करते चल।

 

मन को बना ले सरिता,

बाधाओं के बीच रास्ता बनाते चल।

क्योंकि मन के हारे हार है,

मन के जीते जीत।

 

जरूरी नहीं जीवन में तुझे शीतल,

मंद, सुगंधित समीर मिले।

सामने गर्म पवन, सर्द हवाएं,

आंधी तूफानों के चक्रवात भी आएंगे।

 

तू हिम्मत न हार, मन छोटा ना कर,

मन को अपने सुमेरु बना।

क्योंकि मन के हारे हार है,

मन के जीते जीत।

 

क्या हुआ जो तू ठोकर लगने से,

औरों की तरह गिर गया।

गिरने में कोई बड़ी बात नहीं,

फिर से संभल और इतिहास बना।

 

जिन पत्थरों से तुझे ठोकर लगी,

उन्हें ही सफलता की सीढ़ी बना।

क्योंकि मन के हारे हार है,

मन के जीते जीत।

 

उलझनों के भंवर में,

अगर फंसी है तेरी जीवन नैया।

इधर-उधर के लहरों के थपेड़े भी

जब तुझे विचलित करने लगे।

 

तब भय छोड़ हिम्मत से कर सामना,

मन को तू अपने पतवार बना।

क्योंकि मन के हारे हार है,

मन के जीते जीत।

 

जीवन एक संघर्ष है,

तू इससे कब तक बचेगा और भागेगा।

हिम्मत से कर सामना, मन को कस,

कर इस पर अपना वश।

 

पनी सफलता की कहानी,

स्वयं अपने कर्मों से तू लिख।

क्योंकि मन के हारे हार है,

मन के जीते जीत।

-लोकेश्वरी कश्यप

इसे भी पढ़ें :-

 

motivational poem in hindi

 

हारा नहीं हूँ मैं

Motivational Poem

 

अभी हारा नहीं हूं मैं,

एक और मौका मिला है मुझे।

लड़ रहा हूं चुनौतियों से,

सफल होकर दिखाऊंगा तुझे।

 

तू क्या समझता है मुझे?

खो दूंगा मैं अपना हौंसला।

रोते रहूंगा बैठकर हरपल,

मायूस होकर मन बौखला।

 

क्या चुप होकर बैठ जाऊं?

ऐसा हरगिज़ नहीं करूंगा।

नए राह में कदम रखकर,

कठिनाइयों से नहीं डरूंगा।

 

जीवन जंग में जीता नहीं तो,

कर लिया अपनी आंखें नम।

कुछ दिन था उदास बहुत,

सोच कर डूबा रहता था मैं ग़म।

 

मन-ही-मन उसी बात को,

दोहराते रहता था बार-बार।

क्यों नहीं मिला मुझे मंजिल?

क्या कमी थी मुझमें सार?

 

मैं लायक तो नहीं इसका,

नहीं-नहीं ऐसी बात नहीं है।

करूं भी तो क्या करूं मैं?

भाग्य ही मेरे साथ नहीं है।

 

हल-चल हो रही है मन में,

उदासी लग रहा मुझे बहुत।

दिल कहता है तू फिर लड़,

दिमाग कहता है थोड़ा रुक।

 

नहीं मानूंगा किसी की बात,

करूंगा सदा अपनी मन की।

टूटने ना दूंगा हौसला अपनी,

थामा हूं डोर नवजीवन की।

 

अभी-अभी तो चलना सीखा,

दौड़ में कैसे जीत पाऊंगा?

करके तैयारियां कौशल लेकर,

मैदान में लड़ने आऊंगा।

 

फिर देखूगा सबको ज्ञान से,

खोल कर अपनी त्रिनेत्र को।

विद्यारण भूमि में कूद पडूंगा,

चुनकर एक ही परिक्षेत्र को।

 

मिलेंगे वहां कई योद्धागण,

दिखाएंगे बाहुबल पराक्रम।

किए होंगे दक्षता हासिल,

पैदा करेंगे लोग हरपल भ्रम।

 

दाएं से बाएं करेंगे वो वार,

मुझे भी संभल कर खेलना है।

देने होंगे मुझे उन्हें प्रतिउत्तर,

भारी आयुध मुझे झेलना है।

 

सीखने होंगे उनके नव तरीके,

तभी जीत पाऊंगा उनसे।

यदि नहीं सीख पाया कला,

हार मान लौटुंगा गुमसुम से।

 

अभ्यास से अर्जित होगा ज्ञान,

नवशक्ति का होगा संचार।

एक बार जीतना होगा मुझे,

कोशिश कर लूंगा प्रतिकार।

-अशोक कुमार यादव

 

संघर्ष

Motivational Kavita

 

जीवन में है कष्ट बहुत,

पर इनका मोचन करना है जरूर।

 

जीवन में है संघर्ष बहुत,

पर इनका सामना करना जरुर।

 

जीवन में है चुनौतियाँ बहुत,

पर इन्हें स्वीकारना भी है जरूर।

 

जीवन में है दुःख बहुत,

पर दुःखों से ऊपर उठना है जरुर।

 

जीवन में है कठिनाईयाँ बहुत,

पर इनको सरल बनाना भी है जरुर।

-सीमा यादव

 

प्रेरणा

Motivational Poem

 

सूरज और चन्द्रमा से,

कर्तव्य पथ के प्रति समर्पित होना सीखिए।

फलों से लदे हुए वृक्ष से,

विनम्रता का गुण सीखिए।

 

नदी, झरनों के जल की धारा से,

निरंतर आगे बढ़ते रहना सीखिए।

बेजुबान पशु-पक्षियों से,

मेहनत करना सीखिए।

 

फूलों से हँसते हुए,

परमार्थ का भाव सीखिए।

माँ धरती सी सरलता,

और सहनशीलता सीखिए।

-सीमा यादव

 

संघर्ष

Motivational Poem In Hindi

 

जीवन का प्रति क्षण संघर्षों से भरा है,

हर पल नयी-नयी चुनौतियों से घिरा है।

जीवन एक साधना है, एक तपस्या है,

जीतता वही है जिसने इनका सामना किया है।

 

हताश मन को जीतना ही संघर्ष है,

निराशा में आशा का भाव जगाना ही संघर्ष है।

कोई निर्बल मन से हार जाता है,

तो कोई अँधेरे में भी उजाले की आस रखता है।

 

जो धैर्य और हौसले से आगे बढ़ता है,

इतिहास में वही अपनी अमिट छाप छोड़ता है।

जीवन का कोई भी पल बेकार नहीं है,

प्रत्येक पल अनमोल, बेशकीमती है।

 

वो व्यक्ति जीवन से हार जाता है,

जो धैर्य और साहस नहीं रख पाता है।

हताश मन से इंसान पंगु हो जाता है,

उत्साही मन से भरा व्यक्ति विजेता बन जाता है।

-सीमा यादव

इसे भी पढ़ें :-

हिम्मत

Motivational Poems

 

इंसान अगर हिम्मत करे,

तो क्या हो नहीं सकता।

अगर ठान ले कोई काम,

तो क्या हो नहीं सकता।

 

मेहनत और हिम्मत,

मिलकर हर काम पूरा कर दें।

अगर भगवान हो साथ,

तो क्या हो नहीं सकता।

 

चींटी और राजा की कहानी

बचपन में थी पढ़ी।

बार बार गिर कर चींटी को,

जब सफलता थी मिली।

 

राजा की टूटी हिम्मत को भी,

एक प्रेरणा थी मिली,

ये जान ले कोई नादान,

तो क्या हो नहीं सकता।

 

किस्मत को जो रोते हैं,

बहाना वो करते हैं।

सहारे को जो ढूँढते हैं,

वो सोते ही रहते हैं।

 

मंजिल को पाने वाले,

तो ठोकर से न डरते हैं।

अगर बन जाए तू कप्तान,

तो क्या हो नहीं सकता।

-राकेश नमित

 

हार न मानेंगे

Poem In Hindi Motivational

 

हार न मानेंगे,

कभी हम हार न मानेंगे।

कर के दिखला देंगे,

मन में जो भी ठानेंगे।

 

चलते जाने से होती है,

जीवन की पहचान।

जो कोशिश करता,

कहलाता वह सच्चा इंसान।

 

रुक जाने को जीवन का,

आधार न मानेंगे।

हार न मानेंगे,

कभी हम हार न मानेंगे।

 

जीवन की सच्चाई,

हमको सदा पकाती हैं।

कंचन जैसा चमकदार,

व्यक्तित्व बनाती हैं।

 

राहों की ठोकर को,

हम बेकार न मानेंगे।

हार न मानेंगे,

कभी हम हार न मानेंगे।

 

समतल राहों पर तो,

कोई भी चल सकता है।

पार चुनौती जो करता,

मीठे फल चखता है।

 

सुविधाओं को जीवन का,

सिंगार न मानेंगे।

हार न मानेंगे,

कभी हम हार न मानेंगे।

 

बिखर गया हर सपना उसका,

जीवन वहीं रुका।

अंधकार से डरकर,

जग में कोई अगर झुका।

 

अरे अँधेरे,

हम तेरी इक बार न मानेंगे।

हार न मानेंगे,

कभी हम हार न मानेंगे।

 

नाम उसी का हुआ कि,

जिसने भी संघर्ष किया।

अमृत औरों को बाँटा,

खुद हँसकर जहर पिया।

 

औरों की खातिर,

जीना दुश्वार न मानेंगे।

हार न मानेंगे,

कभी हम हार न मानेंगे।

-अशोक अंजुम

 

संघर्ष से सफलता की ओर

Motivational Poems In Hindi For Students

 

एक युद्ध रणभूमि में,

एक समर अंतर्मन में,

जीत समर अंतर्मन का,

फिर उतरो रणभूमि में।।

 

अंतर्मन से हार भी जाओगे,

उठने का हौसला ज़रूर पाओगे,

नहीं तो एक ज़रा सी ठोकर पर ही,

ऐसे गिरोगे कि संभल ना पाओगे।।

 

गिरने में बुरा भी कुछ नहीं,

उठने का साहस जुटा पाओ तो,

ऐसे बहुत धुरंधर हैं इस धरा पर,

जो गिरकर ही पहुंचे हैं शिखर पर।।

 

हार कभी अगर जो जीवन में पा जाओगे,

जीत का मीठा स्वाद तभी चख पाओगे,

संघर्ष जीवन में कर निस दिन, ऐ मानव,

तभी सफलता का परचम लहरा पाओगे।।

-सीमा मोरध्वज

 

जीतने की कोशिश मैं करता रहूंगा

Motivational Poetry In Hindi

 

आज भले ही कमजोर हूँ,

कोसो मंजिल से दूर हूँ।

फिर रोक न सकोगे मुझको,

सपनों में हरदम मैं भरता रहूंगा।

जीतने की कोशिश मैं करता रहूंगा।।

 

आज का दिन बीत गया,

कल नया सूर्योदय होगा।

आज भले मैं थका हारा,

कल नया जीवनोदय होगा।

एक नया विश्वास मैं भरता रहूंगा,

जीतने की कोशिश मैं करता रहूंगा।।

 

हारा हूँ, पर थका नहीं हूँ,

डगमगाया, पर गिरा नहीं हूँ।

बुलन्द हौसलें, मजबूत इरादे,

जब तक सांसे है, मैं लड़ता रहूंगा।

जीतने की कोशिश मैं करता रहूंगा।

-देवप्रसाद पात्रे

 

लक्ष्य

Motivational Poetry In Hindi

 

लक्ष्य भेदन हेतू एक टक जो आंख गड़ाता है,

अर्जुन सा गांडीव लेकर रण मे जो आता है।

साहस, शौर्य की ज्वाला को भरता सीने के अंदर,

हर बाजी जो मार जाता होता वही सिकंदर।

 

गर पाना है लक्ष्य, संयम से हमें चलना होगा,

अपने अंदर आलस से खुद ही हमें लड़ना होगा।

लक्ष्य भेदन की ललक रखता हो दिल के अंदर,

हर बाजी जो मार जाता होता वही सिकंदर।

 

सफलता के राहो मे बिछे है कितने शूल,

परिश्रम के पसीने से शूल भी बनते फूल।

चुनौती स्वीकार करने विश्वास हो जिनके अंदर,

हर बाजी जो मार जाता होता वही सिकंदर।

 

संकल्पित होकर जब लक्ष्य साधा जाता है,

सफलता का ध्येय, स्वयं दुगुना हो जाता है।

संकल्पो के श्वासों को प्रतिक्षण ले दिल के अंदर,

हर बाजी जो मार जाता, होता वही सिकंदर।

-प्रमेशदीप मानिकपुरी

 

हम आगे बढ़ते जाएँगे

Self Motivation Poem Hindi

 

न डरेंगे न कभी बाधाओं से,

हम नित आगे बढ़ते जाएँगे।

लक्ष्य भले ही होगा मुश्किल,

हासिल कर उसे दिखाएँगे।

 

काम आज का जो भी होगा,

म क्रम से पूरा करते जाएँगे।

कल पर यदि हमने छोड़ दिया,

तो निश्चित है, हम पछताएँगे।

 

पढ़ लिख कर घर समाज का,

इक दिन नाम खूब चमकाएँगे।

हम पर भारतवासी गर्व करेंगे,

ऐसा हम हिंदुस्तान बनाएँगे।

 

कमजोरों का हम बनेंगे सहारा,

तम मिटाकर प्रकाश फैलाएँगे।

आत्मबल हम करें खूब मजबूत,

उन्नति के शिखर पर चढ़ जाएँगे।

 

तूफानों से न होंगे कभी भयभीत,

हम धैर्य रख कदम बढ़ाते जाएँगे।

सत्पथ से यदि नहीं होंगे विचलित,

हम जीवन में नित खुशियाँ पाएँगे।

-देवेन्द्र श्रीवास्तव

 

चटटानों को खोदकर देखों

Self Motivation Poem Hindi

 

चलना पड़ता सबकों दुःख की डगर पर,

यह कठिन जीवन का तुम्हारा इम्तिहान है।

है वीर वही लड़े समर में जो बनकर साहसी,

सजी देह भीरुता से, देह नहीं निस्सार मैंदान है।

 

कठोर आग में ही तो कठोर सोना पिघलेगा,

चट्टानों को खोदकर देखो, सोना निकलेगा।

न भय है आँधी तूफ़ान का, न है तपन का,

स्थिर द्रुम अनल में जलकर मंजिल देता।

 

तुम्हारें तमस चित में यकीन के दीप जले,

कभी -कभी मुक़दर भी इम्तिहान लेता।

सूखे उपवन में विजय का पुष्प खिलेगा,

चट्टानों को खोदकर देखो, सोना निकलेगा।

 

काँटे -काँटे बिखरे लम्बे-लम्बे पथ पर,

छीन- छीन हुए पग,पर न हुआ हौसला।

एक चिड़िया तिनका-तिनका बटोरकर,

धैर्य ,कर्म के विश्वास पर बनाती घोंसला।

 

वेदनाओं का पाहन मोड़-मोड़ पर मिलेगा,

चट्टानों को खोदकर देखो, सोना निकलेगा।।

-दुर्गेश राव

 

छूना है तुम्हें आसमान

Short Self Motivation Poem Hindi

 

धरा की धूल भी,

हवा के एक झोंके से।

छू लेती हैं आसमान,

बांध लो अपनी हिम्मत को,

छूना है तुम्हें आसमान।

छूना है तुम्हें आसमान।

 

जिंदगी तो बार ठोकरें देगी तुम्हें।

हार जाओंगे तुम,

यहीं डर देगी तुम्हें।

तुम्हें अपने डर से,

खुद ही लड़ना होगा।

गिर गये तो उठों फिर से,

छूना है तुम्हें आसमान।

 

छूना है तुम्हें आसमान गड़गड़ाने से,

ही मिलती है, जिंदगी।

पत्थर दिल लोगों का,

पत्थर ही भगवान है।

ईश्वर देखता है, ईश्वर ही करेंगा।

फिर इंसान का क्या आविर्भाव है।

 

तुम्हारे पांव के नीचे ज़मीन,

और आसमान छूते ही,

जीवन क्षितिज का भाव है,

उठो! छूना है तुम्हें आसमान।

-प्रीति शर्मा

 

मंजिल

Motivational Kavita In Hindi

 

सदा मिली है मंजिल उसको,

जिसने धैर्य नहीं छोड़ा।

त्याग परिश्रम सत्य सजगता,

से जिसने नाता जोड़ा।।

 

आलस करने वाला कोई,

पहुँचा कभी न मंजिल तक।

हानि लाभ सबको सहता जो,

वो ही पहुँचा मंजिल तक।।

 

बुद्धि विवेक हृदय में भरकर,

समय देख जो काम करे।

मंजिल सदा मिले उसको जो,

मातु पिता गुरु कहा करे।।

 

अपनी मेहनत के संग में जब,

मिलता प्यार और आशीष।

उन्नति होती मिलती मंजिल,

रक्षा करते है जगदीश।।

-नन्द कुमार

 

यूँ ही नहीं मिलती मंजिल

Inspirational Poem In Hindi

 

यूँ ही नहीं मिलती मंजिल,

सतत है चलना पड़ता,

कोशिशें हैं करनी पड़ती,

कष्ट सहना पड़ता है।

 

मेहनत दिन-रात कर,

लक्ष्य के मार्ग पर,

लोगों से लड़ कर,

राहें अपनी गढ़ कर,

चलना पड़ता है।

 

सपने को साथ लिए,

जोश और जुनून लिए,

जीत का लक्ष्य लिए,

हार कर भी जीत के लिए,

चलना पड़ता है।

 

काँटों भरी इन राहों में,

संघर्ष के इन मैदानों में,

सुखों का त्याग कर,

लक्ष्य अपना साध कर,

चलना पड़ता है।

-प्रीतम कुमार साहू

 

हौसला

Inspirational Poem In Hindi

 

हौसला ना हार यारों,

जिन्दगी फिर मुस्कुराएगी।

 

इक अंधेरी रात के बाद,

रौशनी फिर जगमगाएगी।

वे वक्त आंधियों से,

कश्ती थोड़ी डगमगाई है।

 

रह तू निर्भीक निडर,

जिन्दगी फिर मुस्कुराएगी।

कब देखा है तूने,

जब रात के बाद भोर ना हो।

 

रख तू धैर्य,

सूर्यास्त के बाद सूर्योदय,

जरूर हो जाएगी,

जिन्दगी फिर मुस्कुराएगी।

-अनुपमा

 

मंजिल करीब है

Success Poetry In Hindi

 

थोड़ा और हौसला रख,

बढ़ा कदम लक्ष्य की ओर।

मंज़िल करीब है तुम्हारे,

सौगात लिए आएगी भोर।।

 

न घबराना कड़ी धूप में भी,

स्वेद कण बनेंगे मोती।

संघर्ष के बाद जीवन में,

जगमगाएगी सुख ज्योति।।

 

विश्वास-दीप जलाकर,

होंठों में रखना सदा मुस्कान।

मेहनत और साहस से,

मुश्किलें हो जाएंगी आसान।।

 

नींद त्याग कर रातों की,

जो डटे रहते हैं कर्म पथ में।

खुशियाँ उन्हीं के द्वार आती,

बैठ सफलता के रथ में।।

-अनिता चन्द्राकर

 

कामयाब

Poem On Success In Hindi

 

वक्त वो आ गया है,

जिसका तुझे इंतजार था।

बन के दिखा सितारा,

जिसके लिए बेकरार था।

 

अब हो जाओ तैयार,

सुबह का इंतजार है।

रख यकीन अब तेरी,

काबिलियत हथियार है।

 

मायूस मत होना,

हर वक्त ईश्वर का हाथ है।

अब घबराना नहीं,

दुआ हजारों साथ है।

 

बस अब जा अपनी राह,

मंजिल को इंतजार है।

तेरा जुनून-हौसला,

तेरा सबसे बड़ा हथियार है।

 

आज तक माँ बाप ने तेरे,

हर सपने को पूरा किया।

उन्होंने अपने जीवन का,

हर पल तुझे ही दिया।

 

मौका है तेरे हाथ में,

जाकर उनका कर्ज चुका।

उड़ान भर आसमां की,

ज्ञान से आसमां झुका।

 

डाल दे जान जुनून,

जीतकर तुझे आना है।

अपने माँ-बाप के लिए,

नया लक्ष्य लाना है।

 

अब पीछे नहीं मुड़ना,

अपनी मंजिल तुझे पाना है।

जीवन सफल बनाना है,

तो कुछ कर तुझे दिखाना है।

‘कामयाब’ हो कर आना है,

सबको ये बताना है।

-प्रकाश कुमार खोवाल

 

हम न मानें कभी हार

Short Motivational Poems In Hindi About Success

 

सुख के सूरज बीत गए,

बची दुख की धार,

हम सब मिलकर आओ,

बनें एक तलवार,

हम न मानें कभी हार,

न मानें कभी हार।

 

उम्मीदों से बंधा

हर एक परिंदा है,

पंख सारे टूट गए,

पर हौसला जिंदा है।

हम होंगे एक दिन

चांद के पार

हम न मानें कभी हार,

न मानें कभी हार।

 

मिटा सकता है

दीपक ही हर अंधेरा,

आओ मिलकर दीप

जलाएं और लाएं नया सवेरा।

खुशियों की चाह में

करना है गम को पार

हम न मानें कभी हार,

न मानें कभी हार।

-झसमिता प्रधान

 

राह में मुश्किल होगी

Prernadayak Kavita

 

राह में मुश्किल होगी हजार,

तुम दो कदम बढ़ाओ तो सही।

हो जाएगा हर सपना साकार,

तुम चलो तो सही,

तुम चलो तो सही।

 

मुश्किल है पर इतना भी नहीं,

कि तू कर ना सके।

दूर है मंजिल लेकिन इतनी भी नहीं,

कि तु पा ना सके,

तुम चलो तो सही,

तुम चली तो सही।

 

एक दिन तुम्हारा भी नाम होगा,

तुम्हारा भी सत्कार होगा।

तुम कुछ लिखो तो सही,

तुम कुछ आगे पढ़ो तो सही

तुम चलो तो सही,

तुम चलो तो सही।

 

सपनों के सागर में कब तक

गोते लगाते रहोगें,

तुम एक राह है चुनों तो सही।

तुम उठो तो सही,

तुम कुछ करो तो सही,

तुम चलो तो सही,

तुम चलो तो सही।

 

कुछ ना मिला तो

कुछ सीख जाओगे,

जिंदगी का अनुभव साथ ले जाओगे,

गिरते पड़ते संभल जाओगे,

फिर एक बार तुम जीत जाओगे

तुम चलो तो सही,

तुम चलो तो सही।

-सुभाष गर्ग

 

इम्तिहाँ का है डगर

Motivational Kavita In Hindi

 

इम्तिहाँ का है डगर,

बढ़ने से तू न डर।

जीतने की जिद कर,

भिड़ने से तू न डर।

 

मुश्किलों का दौर है यहाँ,

हौसलों से जीतेगा जहाँ।

सागर से सीखकर,

जीवन को दे लहर।

जीतने की जिद कर,

भिड़ने से तू न डर।

 

ये चाँद, सूरज और सितारे,

जीवन सीख हैं हमारे।

तारों को खींचकर ले आओ जमीन पर।

जीतने की जिद कर,

भिड़ने से तू न डर।

 

खुला गगन होकर मगन,

जी भर के उड़ ले जहाँ।

आत्मबल से बढ़,समता का अवसर।

जीतने की जिद कर,

भिड़ने से तू न डर।

-देवप्रसाद पात्रे

 

अपनी मंजिल पाने को

Poem On Success And Hard Work In Hindi

 

ख्वाब अधूरे तड़प रहें हैं,

अपनी मंजिल पाने को।

कर्म साधना माँग रहा,

मन जीवन के गुण गाने को।

 

सफल वही होता,

जो मानव जी भर ख्वाबों को जीता।

श्रम समिधा का कुंड बनाकर,

संघर्षों का रस पीता।

 

बेल सींच कर आशाओं की,

फिर से फूल उगाने को।

ख्वाब अधूरे तड़प रहे हैं,

अपनी मंजिल पाने को।

 

वक्त बहुत है शातिर,

लेता अग्नि परीक्षा जीवन की।

पहले देता है फिर लेता सुविधाएँ,

ये तन मन की।

 

हार गया जब मन के आगे,

चाहत व्यर्थ लुभाने को।

ख्वाब अधूरे तड़प रहे हैं,

अपनी मंजिल पाने को।

 

डरे नहीं जो सैलाबों से,

मंजिल उनकी दूर नहीं।

लक्ष्य भेद ले बिना,

अंगूठा एकलव्य सा नूर नहीं।

 

प्रबल अगर हो इच्छाएँ तो,

लक्ष्य तरसते आने को।

ख्वाब अधूरे तड़प रहे हैं,

अपनी मंजिल पाने को।

-ज्योति जैन

 

अग्निपथ कविता

Motivational Poetry In Hindi

 

वृक्ष हों भले खड़े,

हों घने हों बड़े,

एक पत्र छाँह भी,

माँग मत, माँग मत, माँग मत,

अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ।

 

तू न थकेगा कभी, तू न रुकेगा कभी,

तू न मुड़ेगा कभी,

कर शपथ, कर शपथ, कर शपथ,

अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ।

 

यह महान दृश्य है,

चल रहा मनुष्य है,

अश्रु श्वेत रक्त से,

लथपथ लथपथ लथपथ,

अग्निपथ अग्निपथ अग्निपथ।

-हरिवंश राय बच्चन

 

किस्मत के भरोसे मत बैठो

Motivational Poem In Hindi 

जीवन पथ पर लड़ सकते हो,

आगे तुम भी बढ़ सकते हो।

त्याग दो आलस का दामन,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

 

मिला नहीं उसे ला सकते हो,

श्रम कर आागे बढ़ सकते हो।

जो चाहो तुम पा सकते हो,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

 

रगों में साहस भर सकते हो,

मुसीबतों से लड़ सकते हो।

दौड़ नहीं तो चल सकते हो,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

 

सूरज सा निकल सकते हो,

लक्ष्य हासिल कर सकते हो।

इतिहास नया तुम गढ़ सकते हो

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

-प्रीतम कुमार साहू

 

आत्मबल

Hindi Kavita Motivational

 

टूटेगा कभी हौसला,

छूटेगा कभी साथ।

पर न उठने देना,

खुद पर से विश्वास।

 

कभी बिछुड़ेंगे अपने,

कभी टूटेंगे सपने।

पर तुम न छोड़ना,

मंजिल पाने की आस।

 

आएंगी विपत्तियाँ समय,

न होगा अनुकूल।

संकटों की तेज,

आंधियाँ चलेंगी प्रतिकूल।

 

हिम्मत न हारना तुम,

रहना अडिग अविचल।

बुरे से बुरा वक्त भी,

हो जाएगा विफल।

 

चाहते हो लक्ष्य अपना,

तो दृढ़ हो संकल्प।

कर्तव्य-पथ पर चलो,

सुवासित है कल।

 

मंजिल न हो ओझल,

न हारो किसी पल।

तुम्हे लक्ष्य तक पहुँचायेगा,

तुम्हारा ही आत्मबल।

-शशि पाठक

 

नया इतिहास बनाओ

Inspirational Poem In Hindi

 

जुनून का तेल डाल कर,

आग की लपटें उठा।

बन मशाल अपने दम पर,

तू घने तम को मिटा।

 

अपने भीतर की उस,

प्रसुप्त शक्ति को जगा।

चैतन्य से अपने आलस,

अकर्मठता को दूर भगा।

 

दबी हुई चिंगारी को,

धधकती हुई ज्वाला बना।

ला परिवर्तन तू भी,

एक नया इतिहास बना।

 

कर हर पल का सदुपयोग,

फैला दे जहाँ में प्रकाश।

सुकर्मों की खुशबू से,

बन ऊँचा हो जैसे आकाश।

-अनिता चंद्राकर

 

सफलता की राह

Motivation Kavitaen

 

किसी नये काम का,

आगाज करके देखो।

कल जो करना है,

उसे आज करके देखो।

 

कर्म अच्छे करने पर,

साथी कई मिल जाते हैं।

कम से कम एक बार,

आवाज करके देखो।

 

लक्ष्य स्थिर रख कर,

बढ़ो मंजिल की ओर,

काम करने का नया,

अंदाज करके देखो।

 

महत्व नहीं होता कोई,

लकीर पीटने वालों की,

सुधार की खातिर नया,

काज करके देखो।

 

पग चूमेगी सफलता,

यदि खुद पर विश्वास है,

आत्मविश्वास पर अपने,

नाज करके देखो।

 

बंधे रहोगे कब तलक,

गुलामी की बेड़ियों में,

उन्मुक्त गगन में,

परवाज करके देखो।

 

हां में हां सदा,

न मिलाते ही रहना।

मार्ग यदि बुरा हो तो,

एतराज करके देखो।

 

बिठाएगा सर आंखों पर,

जहान सारा।

दिलों में सबके,

राज करके देखो।

-अनकेश्वर प्रसाद महिपाल

 

प्रेरक कविता

Motivational Poem In Hindi

 

सफल लोगों का काम,

दिखता है आसान।

उसके पीछे संघर्ष कठिन है,

तब पहुंचता है मुकाम।

 

इसे समझने के लिए एक कहानी,

मैं सुनाता हूं।

चित्रकार और एक युवक की कहानी,

उसे बताता हूं।

 

एक राज्य में बहुत बड़े,

चित्रकार रहते थे।

उनके बनाए हुए चित्र,

बहुत महंगे बिकते थे।

 

चित्रकार एक दिन कहीं,

यात्रा में निकल गया।

मार्ग में रात होने के कारण,

एक गांव में ठहर गया।

 

उस गांव में एक युवक ने,

उसे पहचान लिया।

चित्रकार के पास पहुंच कर,

उसे प्रणाम किया।

 

उस युवक ने कहा-मैं

आपके चित्रों की प्रशंसा करता हूँ।

आप मेरे लिए भी एक चित्र बनाएँ,

आपसे आग्रह करता हूँ।

 

उस चित्रकार ने अपने थैले से,

एक कागज निकाला।

कुछ ही समय में एक चित्र बनाकर,

उस युवक को दिया।

 

युवक ने इतनी जल्दी चित्र बना देख,

बहुत निराशा हुआ।

उसने सोचा चित्रकार ने टालने के लिए,

जल्दबाजी में चित्र बनाया।

 

चित्रकार युवक के हाव-भाव देख,

उसे समझाया।

इस चित्र का मूल्य सौ स्वर्ण मुद्राएं हैं,

उसने बताया।

 

विश्वास नहीं हुआ युवक को,

कलादीर्घा में चित्र लेकर पहुंच गया।

कीमत सही बताया था चित्रकार ने,

वह दौड़ कर उसके पास आया।

 

युवक ने कहा- महोदय जी चित्र बनाना,

मुझे भी सिखाएँ।

ताकि मैं कुछ क्षणों में चित्र बनाऊं,

कीमत हो सौ स्वर्ण मुद्राएँ।

 

चित्रकार ने कहा- कुछ क्षण चित्र बनाने में,

तीस वर्ष लगा है हमारे।

अगर तुम भी तीस वर्ष लगा सकते हो तो,

चित्र बनाना सीखो प्यारे।

 

तब युवक को लगा,

सफलता दिखता है आसान।

इच्छा करते हैं,

थोड़ी ही समय में बन जाए महान।

-संतोष कुमार कौशिक

 

कोशिश कर

Motivational Poem In Hindi

 

कोशिश कर, हल निकलेगा,

आज नहीं तो, कल निकलेगा।

अर्जुन-सा साध धनुष-बाण,

मरूस्थल से जल निकलेगा।

 

मेहनत कर, रोप पौध तू,

एक न एक दिन फल निकलेगा।

हिम्मत कर के आगे बढ़ जा,

समस्याओं का हल निकलेगा।

 

उम्मीदों को जिन्दा रख तू,

पर्वत से गंगाजल निकलेगा।

यदि झूठा प्रपंच किया तो,

सच है ‘तारक’ मुसल निकलेगा।

-संतोष कुमार तारक

 

अथक परिश्रम

Hindi Poems On Life Inspirational

 

स्वप्न देख आँखों में,

कर परिश्रम अथक तू।

सपना होगा साकार।

मंजिल मिल ही जाती है,

श्रम का दामन ना छोड़ना तू।

 

लेकर मन में उम्मीदों की आस,

कर परिश्रम अथक तू।

सपना होगा साकार।

चुन-चुनकर हँसी का,

गुलदस्ता साथ रखना।

 

विश्वास की आस को भी पास रखना,

क्षण-भर की आँधी से ना घबरा जाना तू।

कर परिश्रम तू,

सपना होगा साकार।

 

चींटियों की मेहनत से सीख लेकर,

आगे बढ़ते जाना तू।

कर परिश्रम अथक तू,

सपना होगा साकार।

 

परिंदों सी ऊँची उड़ान रखना तू,

मन में हौसलों का अरमान रखना तू।

होगी जीत तेरी ही,

चेहरे पे सच्ची मुस्कान रखना तू।

 

कर परिश्रम अथक तू,

सपना होगा साकार।

-परवीनबेबी दिवाकर

 

संघर्ष

Hindi Poems On Life Inspirational

 

सूर्य की तरह अटल,

प्रतिदिन प्रतिपल

अनवरत संकल्प ले

संघर्ष की नींव रख

तू आगे बढ़।।

 

बाधा कोई भी आए

डरना नही घबराना नही

गिर उठ सभंल

संघर्ष की नींव रख

तू आगे बढ़।।

 

सत्य अहिंसा अपनाकर

धर्म का पथ प्रशस्त कर

बिना रूके बिना ठहरे

संघर्ष की नींव रख

तू आगे बढ़।।

 

विश्वास का दीप जलाकर

दृढ़ लक्ष्य साधकर

कर्तव्य पथ पर

संघर्ष की नींव रख

तू आगे बढ़।।

-प्रियंका पान्डेय त्रिपाठी

 

मन के जीते जीत

Hindi Poems On Life Inspirational

 

मन बड़ा ही कोमल है ये,

कर लो इससे प्रीत।

मन के हारे हार है जी,

मन के जीते जीत।।

 

चंचल मन एक पंछी जैसा,

यहाँ वहाँ मडराए।

कहीं ये खुशियाँ पा लेता,

कहीं पे धोखे खाए।।

 

अपने मन की डोरी को,

रख लो कसके खींच।

मन के हारे हार है जी,

मन के जीते जीत।।

 

मुश्किल घड़ियों में मानव,

व्याकुल कभी ना होना।

अपनी संयम शीलता,

तुम कभी ना खोना।।

 

सुख दुःख के ये दो पहलू हैं,

दुनिया के रीत।

मन के हारे हार है जी,

मन के जीते जीत।।

 

अपने पराये रिश्ते नाते,

रख लो सभी से मेल जी।

चार दिनों की जिंदगी ये,

चार दिनों का खेल जी।।

 

मन में रखकर नेक भाव को,

कर लो सबसे प्रीत।

मन के हारे हार है जी,

मन के जीते जीत।।

 

मन में रखकर अटल भरोसा,

आगे बढ़ते जाना जी।

चंचल मन को वश में करके,

ईश्वर में ध्यान लगाना जी।।

 

अपने सद्कर्मों से मानव,

कर लो हासिल जीत।

मन के हारे हार है जी,

मन के जीते जीत।।

-चंपा पांडे

 

हिम्मत मत हार

Motivational Poem In Hindi

 

तूफानों को पाल बना ले,

लहरों को पतवार साथी।

जिंदगी है कड़ी चुनौती,

हर कदम पर खड़ी चुनौती।

 

हर बड़ी से बड़ी चुनौती,

तुझको डिगा न पाएगी।

तू डटा रहना वो,

तेरे सन्मुख शीश झुकाएगी।

 

कर ले स्वीकार चुनौती,

कर ले स्वीकार।

क बार ठन जाए मन में,

तो फिर क्या दुश्वार।

 

तू सफ़र से हार गया तो,

तू थकन से हार गया तो,

संघर्षों के पथ पर

मील के पत्थर कौन लगाएगा।

 

आने वाली पीढ़ी को फिर,

रास्ता कौन बताएगा।

हो जा तैयार साथी,

हो जा तैयार।

 

हर कदम पर हर मंज़िल पर,

रखना है आधार साथी।

है अजब ये खेल तमाशा,

अँधियारा फेंकेगा पासा।

 

जाने तू कितनों की आशा के,

तब दीप जलाएगा।

सूरज की अगवानी करने का,

अधिकार दिलवाएगा।

 

चलने दे दाव,

साथी करने दे वार।

तू दिया है अँधियारों से जीतेगा,

हर बार साथ साथी।

-सुदीप भोला

 

सीखते रहो

Motivational Poem In Hindi

 

पथिक पथ पर चलते रहो,

हो आज अकेला तो

हौसला साथ लिए चलो

कदम अपना बढाये चलो।

 

पथिक पथ पर चलते रहो

उम्मीद की किरण लिए चलो

अगर आए अंधेरा मुश्किलों का

तो हल चिराग का लिए चलो।

 

कर सामना डट कर उनका

तुम जो हो अकेला आज

तो काफिला पीछे चलने का

हौसला साथ लिए चलो।

 

अगर हो उदास तुम आज

तो ना खोना हिम्मत अपना

पथिक पथ पर सीखते रहो

एक नया पद बनाने का

हौसला साथ लिए चलो

पथिक पथ पर बढे चलो।

-ममता कुशवाहा

 

मंजिल

Motivational Poems In Hindi

 

रास्ता है मुश्किल पर मंजिल को पाना है।

आगे ही आगे बढ़ते जाना है,

डर को पीछे छोड़,

उम्मीद का दामन थाम।

 

मंजिल की ओर कदम बढ़ाना है।

हर कोशिश के साथ,

मंजिल के और करीब जाना है।

 

गिर भी जाएं,

उठने की ताकत बनाए रखना है।

हर रुकावट से लड़कर,

अपनी मंजिल को पाना है।

 

ना कहीं रुकना है,

ना कहीं थमना है।

विश्वास की नाजुक डोरी के सहारे,

मंजिल की ओर बढ़ना है।

 

भले ही मंजिल ना पाएं,

पर मन में कोशिश ना करने का,

अफसोस नहीं पाना है।

अपने-आप को खोकर,

एक दिन अपनी मंजिल को पाना है।

-जसलीन कौर

 

उम्मीदों का आकाश कभी झुकता नहीं

Self Motivation Poem Hindi

 

हौसले की उड़ान भर तू राही,

कभी थमना नहीं।

चलता चल जीवन पथ पर, क्यूंकि

उम्मीदों का आकाश कभी झुकता नहीं।

 

बाधाएं तो आएंगी,

पर निराश होना नहीं।

घड़ी है अग्निपरीक्षा की,

राही तू डरना नहीं।

 

चाहत है अगर,

मंजिल को पाने की,

राही तू भटकना नहीं।

 

भरोसा है अगर,

खुद पर और खुदा पर,

राही तू थमना नहीं।

 

मंजिल खुद चलकर आएगी,

मार्ग से अपने हटना नहीं।

क्युकी उम्मीदों का आकाश,

कभी झुकता नहीं।

 

जबतक हो एक भी साँस बाकि,

तबतक जीने की चाह छोरना नहीं।

करो वही, जो सोचा है,

समय कभी थमता नहीं।

 

मुस्कुराकर गम भूलाता चल राही,

बेकार का गट्ठर उठाकर चलना नहीं।

ये दुनियाँ तो रैनबसेरा है,

किसी को यहाँ रहना नहीं।

 

जो आया है, सो जायेगा,

व्यर्थ के जाल में फसना नहीं।

प्यार लुटाता चल सभी पर,

मुख कभी किसी से मोरना नहीं।

 

अपने भी होंगे, सपने भी होंगे,

अपनों के बिना जीवन नहीं।

क्युकी उम्मीदों का आकाश,

कभी झुकता नहीं।

-ब्रहा कुमारी मधुमिता

 

संघर्ष

Self Motivation Poem Hindi

 

इक बार गिरी सौ बार गिरी,

हर बार किया अभ्यास नया,

हारा न कभी जीता ही किया,

इक चींटी का विश्वास नया।

 

जो स्वयं लड़ा है हर पथ से,

पैरों में अगणित घाव लिए,

जो रवि तापों से थका नहीं,

बैठा न कहीं तरु छाँव लिए,

 

जीवन ने कितनी बार तुझे,

सुख से दुख से दोहराया है,

आकुल उर दीपक मौन जला,

मुस्कानों का स्वभाव लिए।

 

प्रवाहमान सरिता आखिर,

सागर से मिल ही जाती है,

गति से सुनिश्चित होता है,

हर मंजिल का एहसास नया।।

 

तुझको ही तय करना होगा,

खुद अपने ठौर ठिकाने को,

तुझको ही धागे बुनने हैं,

जीवन के ताने-बाने को,

 

तुझको ही प्यासे मौन दृगों की,

पढ़नी है व्याकुल भाषा,

तुझको ही निर्मित करना है,

रंग अपना चित्र बनाने को।

 

तुझको ही नापना है पथ की,

गहराई को ऊँचाई को,

तुझको ही चुननी है धरती,

तुझको चुनना आकाश नया।।

 

कुछ पंछी मन को छोटा कर,

उड़ते उड़ते थक जाते हैं,

कुछ पंछी ऊंचे अंबर को ही,

देख लौट घर आते हैं,

 

कुछ ही पंछी सम्मानित होते हैं,

उन चांद सितारों से,

कुछ ही पंछी इन सूनी,

संध्या का दीपक बन पाते हैं।

 

जो पंछी कैद किया करते हैं,

पंखों में तूफानों को,

वो ही लिखते हैं,

इंद्रधनुष के रंगों से इतिहास नया।।

 

हारा न कभी जीता ही किया,

एक चींटी का विश्वास नया।

इक बार गिरी सौ बार गिरी,

हर बार किया अभ्यास नया।।

-प्रमोद प्यासा

 

लहरों से टकराना है

Motivational Poems In Hindi For Students

 

जिन्हें पार उतरने की चाह हो मन में,

उन्हें यहां ऊंची लहरों से टकराना है।

 

डूब जाने की मिथ्या व भय को पल में,

साहस रूपी शस्त्र से ही दूर हटाना है।

 

लक्ष्य निकट है, परिस्थितियां विकट हैं,

पथिक को निरन्तर ही चलते जाना है।

 

अब सभी शिकारियों के हौंसले हैं बुलंद,

नन्हे पक्षी को अपना अस्तित्व बचाना है।

 

सब इच्छाएं यहां कब-कहां पूरी होती हैं,

परिश्रम से हमें माटी को स्वर्ण बनाना है।

-हिमांशु बडोनी

 

हौंसला

Short Motivational Poems For Students

 

जब मुश्किलों का दौर जिंदगी में आये।

गम के बादल चारों ओर से घिर आयें।

रात का अंधेरा बढ़ता ही जाये।

उस वक्त हौसले का दिया मन में जलाये रखना।

 

राह कैसी भी हो कदम आगे बढ़ाये चलना।

हौसला ही वो मांझी है,

जो तूफानों से घिरी-कस्ती को,

साहिल से निकाल लाये।

 

हौसला ही वो कुंजी है,

जो हज़ार असफलताओं के बाद भी,

सफलता का विश्वास दिलाये।

 

प्रकृति का नियम है यही होता है,

सवेरा हर अँधेरी रात के बाद,

घने-काले बादल ही लेकर,

आते सुहानी बरसात,

संघर्ष करना पड़ता अस्तित्व के लिये,

 

हर किसी को यहाँ,

जो संघर्षों से न विचलित हो,

वही इस इम्तिहान में उत्तीर्ण हो पाएं।

 

ज़िन्दगी है अगर जंग तो,

हौसलावान ही इसके योद्धा कहलायें,

हौसला ही है जो जीवन को समृद्ध,

शक्तिशाली और स्वाबलंबी बनाये।

-पूजा मिश्रा

 

ठान लिए तो जीत है

Motivational Poem In Hindi

 

ठान लिए तो जीत है,

यदि डर गए तो हार।

दो शब्दों से जिंदगी का,

बदल जाए आकार।।

 

एक बार यदि हार गए,

तब भी न छोड़ें मैदान।

दृढ़ निश्चय कर डटे रहें,

इक दिन होगा यशगान।।

 

जीत अगर मिल गया,

हम न करें अभिमान।

नही तो दुर्गुण आ बसे,

खत्म हो जाए सम्मान।।

 

धन दौलत पद प्रतिष्ठा से,

जीवन में मिलता है सुख।

जीवन में हो कोशिश मेरी,

न हो किसी को दुःख।।

 

सच्चा सुख जीवन में मिले,

जब करना सीखें हम प्रीत।

रुपया पैसा यदि चला गया,

पर प्रीत न छोड़ता मीत।।

 

झूठ, फरेब और कपट से,

कुछ ही दिन रहता नाम।

जीवन में सच व प्रीत का,

सदैव मिले हमें इनाम।।

-लाल देवेन्द्र कुमार

 

हौसला कायम रख ऐ दोस्त

Motivation Poem

 

ये मुश्किलात के दिन भी,

एक दिन गुजर जाएंगे।

हौसला कायम रख ऐ दोस्त,

हालात सुधर जाएंगे।।

 

किसी को क्या मालुम था,

दौर ऐसा भी आएगा।

लोग अपने आप को यूं,

घरों में कैद कर जाएंगे।।

 

समय जब खराब आता है,

अनेकों कष्ट लाता है।

कुछ वक्त गुजर जाने बाद,

सारे घाव भर जाएंगे।।

 

जहाँ पतझड़ गुजरता है,

बहार भी आती है वहाँ।

दीप आशा के जलाए रख,

अंधेरे डर कर जाएंगे।।

 

जो तमन्ना रखते हैं मन में,

सपनें पूरा करने की।

पत्थर तो उछाल फेंक,

गगन में छेद कर जाएंगे।।

 

सिलसिला जारी रहेगा,

प्रकृति से यूँ ही लड़ने का।

कुदरत के कोप से बचकर,

आखिर किधर जाएंगे।।

 

‘राजस्थानी’ भंवर में कश्ती,

कुछ तो डगमगाएगी।

आत्मविश्वाश टूटने मत दे,

नैया पार उतर जाएंगे।।

-तुलसीराम

 

ठीक नहीं

Motivational Poem In Hindi

 

पत्थर बन अविचल होकर,

लाखों ठोकर सह जाता है,

आकार विषेश बने जिसका,

वो पत्थर पूजा जाता है।

 

बिना डरे पतवार लिए,

जो अपनी नांव बढ़ाता है,

अटूट रहे मनोबल जब तो,

सागर भी झुक जाता है।

 

सपनो की स्याही लेकर,

जो शाश्वत कलम चलाता है,

जो मर कर भी हैं अमर आज,

इतिहास उसे ही गाता है।

-सिद्धि मिश्रा

 

जो बीत गई सो बात गई

Motivational Poem In Hindi

 

जीवन में एक सितारा था,

माना वह बेहद प्यारा था।

वह डूब गया तो डूब गया,

अंबर के आंगन को देखो।

कितने इसके तारे टूटे,

कितने इसके प्यारे छूटे।

जो छूट गए फिर कहाँ मिले,

पर बोलो टूटे तारों पर,

कब अंबर शोक मनाता है।

जो बीत गई सो बात गई।

 

जीवन में वह था एक कुसुम,

थे उस पर नित्य निछावर तुम,

वह सूख गया तो सूख गया।

मधुबन की छाती को देखो,

सूखीं कितनी इसकी कलियाँ,

मुरझाईं कितनी वल्लरियाँ।

जो मुरझाईं फिर कहाँ खिलीं,

पर बोलो सूखे फूलों पर,

कब मधुबन शोर मचाता है,

जो बीत गई सो बात गई।

 

जीवन में मधु का प्याला था,

तुमने तन मन दे डाला था।

वह टूट गया तो टूट गया,

मदिरालय का आँगन देखो,

कितने प्याले हिल जाते हैं।

गिर मिट्टी में मिल जाते हैं,

जो गिरते हैं कब उठते हैं।

पर बोलो टूटे प्यालों पर,

कब मदिरालय पछताता है,

जो बीत गई सो बात गई।

 

मृदु मिट्टी के बने हुए,

मधु घट फूटा ही करते हैं।

लघु जीवन ले कर आए हैं,

प्याले टूटा ही करते हैं।

फ़िर भी मदिरालय के अन्दर,

मधु के घट हैं, मधु प्याले हैं।

जो मादकता के मारे हैं,

वे मधु लूटा ही करते हैं।

वह कच्चा पीने वाला है,

जिसकी ममता घट प्यालों पर,

जो सच्चे मधु से जला हुआ।

कब रोता है चिल्लाता है,

जो बीत गई सो बात गई।

-हरिवंश राय बच्चन

 

निश्चय ही तुम्हारी जीत हो

Short Motivational Poems In Hindi About Success

 

उठो मनुज आगे बढ़ो,

अपने लक्ष्य का संधान करो।

शीतलता नहीं है गुण तुम्हारा,

ओजपूर्ण है कुल तुम्हारा।

 

साहस तुम्हारा मीत है,

तो निश्चित तुम्हारी जीत है।

कर्मपथ के तुम अनुरागी,

डटे रहो अपने मार्ग पर।

 

परिश्रम से यदि तुम्हें प्रीत है,

तो निश्चित तुम्हारी जीत है।

मत घबराओं तनिक बाधाओं से,

गिर कर ही उठना होता है।

 

यही संघर्ष की रीत है,

निश्चित तुम्हारी जीत है।

एक स्वप्न देखो,

फिर उसको साकार करो।

 

जिसमें नवजीवन का आरम्भ हो,

मुख पर विजयश्री का गीत हो,

निश्चय ही तुम्हारी जीत हो।

निश्चय ही तुम्हारी जीत हो।

-रेखा सुथार

 

मन की शक्ति

Motivational Poem In Hindi

 

मन से मन मिले तो

मन एकाग्र हो जाता है,

मन से मन न मिले तो

मन भ्रष्ट हो जाता है।

 

मन की शक्ति बड़ी

निराली-अनोखी होती है, जो

नामुमकिन को मुमकिन कर जाती है।

 

मन से ही सब कुछ,

हासिल हो पाता है।

इसलिये मन पर काबू,

रखना भी जरूरी हो जाता है।

 

मन को जीतने से ही,

सारी कामयाबी मिलती है।

तन की सुंदरता,

मन की खूबसूरती पर निहित होती है।

 

यदि मन से विचलित हो जाएं तो,

सब कुछ बिखर जाता है।

और यदि मन से सुदृढ़ व सबल हैं तो,

संघर्षों से छुटकारा मिल जाता है।

 

मन ही है, जो

आपके जीत-हार को तय करता है।

मन के हारे हार और मन के जीते जीत,

इसीलिए कहा जाता है।

 

मन की गति को,

कोई भी रोक नहीं सकता है।

इसीलिए मन को हवा से भी,

अधिक गतिशील कहा जाता है।

 

मन की शक्ति के आगे,

सबको हारना पड़ता है।

मन की गति को जो रोक सके,

वहीं ईश्वर कहलाता है।

-सीमा यादव

 

किस्मत के भरोसे मत बैठो

Motivational Kavita In Hindi

 

जीवन पथ पर लड़ सकते हो,

आगे तुम भी बढ़ सकते हो,

त्याग दो आलस का दामन,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

 

मिला नहीं उसे ला सकते हो,

श्रम कर आगे बढ़ सकते हो,

जो चाहो तुम पा सकते हो,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

 

रगों में साहस भर सकते हो,

मुसीबतों से लड़ सकते हो,

दौड़ नहीं तो चल सकते हो,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

 

सूरज सा निकल सकते हो,

लक्ष्य हासिल कर सकते हो,

इतिहास नया तुम गढ़ सकते हो,

किस्मत के भरोसे मत बैठो।

-प्रीतम कुमार साहू

 

हार

Motivational Poems In Hindi

 

बेहतर होने का अनुभव देती हैं,

यह तो सिर्फ एक परिस्थिति है,

सफलता का सबसे बड़ा रास्ता होती है,

कुछ देर की अतिथि है।

 

यह विजय होने का मजा देती है,

संभलने का जुनून सिखाती है,

जीत की दहाड़ होती है,

जीवन में सबसे बड़ी चुनौती है।

 

इसे भी सहना, सीखना है जरूरी,

क्योंकि जीत की होती है,

थोड़ी सी दूरी, इससे हो जाता है।

 

हमारा दिन थोड़ा बुरा,

पर इसके बिना जीतने का,

एहसास है अधूरा।

 

कोई बड़े से बड़ा वार करें,

अगर बार-बार हमें हार मिले,

और जीतने की कोशिश दमदार रहे,

तो जान लो, जीत उसी के बाद शानदार है।

-डॉ. माध्वी बोरस

 

कोशिश ज़रा-सी

Motivational Kavita In Hindi

 

करके देख ज़रा-सी वो,

कोशिश जिंदगी में,

समझ में जिंदगी का,

हर रंग आ ही जाएगा।

 

अपने ही हाथों से बुन,

सुंदर सपनों के ताने-बाने।

उम्मीदों का विशाल काफिला,

तेरे साथ चला आएगा।

 

जिस दिन,वक्त के साथ-साथ,

चलना सीख लेगा।

वक्त के हाथों में अपना,

हाथ सुरक्षित पाएगा।

 

खुलकर फैला आज़ाद गगन में,

आशाओं के पंख।

अपने कल्पना के फर्श पे,

तू सावन-सा बरसने लगेगा।

 

जब संतुष्टता में समेटेगा,

जीवन की वो छोटी खुशियाँ।

सुकून जिंदगी जीने का,

महसूस करता जाएगा।

 

रास्ते के हर कांटे से,

दोस्ती कर लेना।

तुझको मंज़िल का,

किनारा दिख जाएगा।

-रेखा चौहान

 

आशा है की आपको इस पोस्ट से Top 51+ Best Motivational Poem In Hindi – सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक हिंदी कविता के बारे में जो जानकारी दी गयी है वो आपको अच्छा लगा होगा, आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई है तो अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पूरी जानकारी मिल सके। हमारे वेबसाइट Gyankinagri.com को विजिट करना न भूलें क्योंकि हम इसी तरह के और भी जानकारी आप के लिए लाते रहते हैं। धन्यवाद!!!

Leave a Comment

close