11+ गाय पर सुंदर कविता | Poem On Cow In Hindi

मेरी गाय

Poem On Cow In Hindi

मेरी गाय बहुत प्यारी है,

उसकी रंग सफेद काली है।

श्यामा गाय उसका नाम है,

घास भूसा वह खाती है।

बुलाऊँ तो पास आ जाती है,

सुबह को वह जंगल में,

घास चरने चली जाती है।

उसका एक छोटा बछड़ा है,

जिसका नाम नंदिनी है,

वो मेरे पास ही रहती है।

मैं उनका देखभाल करती हूँ,

शाम को श्यामा आती है।

खूब सारा दूध देती है,

हम दोनों दूध पीते हैं।

-सुरेखा नवरत्न

गाय

Poem On Cow

कितनी सुंदर है कितनी प्यारी,

काली लाल सफेद गाय हमारी।

घास चरने जाने की है तैयारी,

“लाली “नाम की है गाय हमारी।।

बछड़ा है इसका मोटा तगड़ा,

करता रहता है सबसे झगड़ा।

हम सबका है वह लाडला,

गोलू नाम का है मेरा बछड़ा।।

पापा कहते और मम्मी भी कहे,

गौ सेवा करने से पुण्य है मिले।

दूध होता है अमृत के समान,

गौमाता का हम करे सम्मान।।

देवी देवता बसते तैंतीस करोड़,

सेवा कर जीवन का उद्धार करो।

भगवान ने सेवा की है जिसकी,

उसका आप भी सम्मान करो।।

-अजय कुमार यादव

भोली-भाली व मासूम

Hindi Poem On Cow

सुबह सवेरे दरवाजे पर,

हो जाती है खड़ी वह आकर।

जरा बड़ी और थोड़ी मोटी,

आकर खाती है दो रोटी।।

नहीं किसी से करती भेद,

होती काली, लाल, सफेद।

भोली भाली व मासूम,

आती सारा शहर है घूम।

मिलता उससे लाभ है खूब,

जो पाले वह पाता दूध।

उससे सबका नाता है,

कहलाती वो माता है।

समझ गए या बोल दूँ अब,

उसको कहते गाय सब।

-मु० जलालुद्दीन खान

मुझे उम्मीद है की यह लेख गाय पर कविता के बारे में जो जानकारी दी गयी है वो आपको अच्छा लगा होगा, यदि आपको यह post गाय पर कविता (Poem On Cow In Hindi) पसंद आया है तो कृपया कर इस पोस्ट को Social Media अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में पूरी जानकारी मिल सके। हमारे वेबसाइट Gyankinagri.com को विजिट करना न भूलें क्योंकि हम इसी तरह के और भी जानकारी आप के लिए लाते रहते हैं। धन्यवाद!!!

Leave a Comment