15+ सुंदर आम पर कविता | Poem On Mango In Hindi

Rate this post

Poem On Mango In Hindi :- यहाँ नन्हें मुन्हें प्यारे बच्चों के लिए आम पर सुंदर और शानदार आसान भाषा में कविता साझा किया गया है। यह आपकी हिंदी नोटबुक बनाने में भूमिका प्रदान करेंगी। आप सभी के Exam Preparation तथा अन्य तरह के उपयोगिता में यह कारगण साबित होगी।

भारत देश का राष्ट्रीय फल आम है। और इसे फलों का राजा भी कहा जाता है। भारत देश में आम का वृक्ष सभी जगह पाया जाता है। अधिकांश तौर पर आम का वृक्ष ग्रामीण इलाकों में ज्यादा सघन मात्रा में पाया जाता है।

 

Poem On mango In Hindi

 

रसीले आम

Poem On Mango

मीठे और रसीले आम,

दादाजी के बाग में।

हम जाते जब होती शाम,

दादाजी के बाग में।।

कच्चे और पके आमों से,

झुकी बाग की डाली।

रात और दिन करते रहते,

दो माली रखवाली।।

तोते आते रोज तमाम,

दादाजी के बाग में।

मीठे और रसीले आम,

दादाजी के बाग में।।

अच्छे लगते आम रसभरे,

हम सब मिल कर खाते।

आम फलों का राजा होता,

दादाजी समझाते।।

नीलम, केसर, लँगड़ा आम,

दादाजी के बाग में।

मीठे और रसीले आम,

दादाजी के बाग में।।

आम बहुत गुणकारी होता,

सेहत सही बनाता।

और आम के पत्तों से भी,

रोग दूर हो जाता।।

गुठली के मिल जाते दाम,

दादाजी के बाग में।

मीठे और रसीले आम,

दादाजी के बाग में।।

-त्रिलोक सिंह ठकुरेला

आम

Poem On Mango

फलों का राजा होता आम,

चूसो बढ़िया लगता आम।

सबके मन को भाता आम,

पीला बड़ा रसीला आम।

लकड़ी और फल आता काम,

पूजा में भी चढ़ता आम।

छायादार वृक्ष है आम,

नीचे बैठकर मिलता आराम।

इसके रस के कई है नाम,

कितना चोखा मीठा आम।

-अतुल पाठक

आम

Poem On Mango

मीठे आम, रसीले आम,

पके-पके और पीले आम।

खूब मजे से हैं सब खाते,

चाहे हो इसका कोई भी दाम।।

गर्मी के मौसम आते ही,

मिल जाते हैं आम के फल।

पेड़ों पर चढ़कर इसके,

बच्चे करते उठल-पुथल।।

बच्चे, बूढ़े और जवान,

खूब मजे से हैं सब खाते।

बच्चे देखो मजे-मजे में,

हैं आम का रस बनाते।।

आम देख सब के मुँह में,

देखो है पानी आ जाता

तभी तो है यह सभी फलों में,

फलों का राजा कहलाता।।

-श्रीमती सपना यदु

आम

Poem On Mango

खट्टा-मीठा ताजा आम।

सबका जी ललचाता आम।

हिम सागर बादामी बीजू

केसर, चौसा, लंगड़ा आम।

नाम गिनाऊं कौन-कौन सा,

करूं बड़ाई कितना आम।

बनी चटपटी चटनी उसकी।

जब रहता है कच्चा आम।

बन अचार तैयार हुआ तो,

मुंह में पानी लाता आम।

फेट दूध में शेक बना जब,

सबके मन को भाता आम।

भरा हुआ है खास गुणों से,

फिर भी खुद को कहता आम।

इसीलिए शायद बन बैठा,

सभी फलों का राजा आम।

-किरण सिंह

सुंदर और सजीला आम

Poem On Mango In Hindi

सुंदर और सजीला आम,

हम सबको है भाता आम।

बागों में मुस्काते आम,

हम सबका हैं मन हरते आम।

मीठी-मीठी महक बिखेरे,

पेड़ों पर लटके हैं आम।

आओ बच्चों जल्दी आओ,

हम बुलाते है सबको आज।

इसमें विटामिन ए है भरे,

सेहद सबकी इससे निखरे।

स्वादिष्ट गुणकारी खाए आम,

लू को दूर भगाए आम।

पना पीए हम सब मिलकर,

खाएँ आम सभी मन भर कर।

-श्वेता तिवारी

आम

Poem On Mango In Hindi

गर्मी आई, गर्मी आई,

पकने लगे आम भाई।

हवा चली भाई, हवा चली,

लगे गिरने सारे आम।

मुनिया का जी ललचाया,

देख पीले-पीले आम।

एक बड़ी सी टोकरी में,

मुनिया भरकर लाई आम।

खाई और खिलाई सबको,

खट्टे मीठे रसीले आम।

आम फलों का राजा है,

सबके मन को भाये आम।

चेहरा सबका खिल गया,

खाकर मीठे ताजे।

मुनिया रानी बड़ी सयानी,

नहीं तोड़ती कच्चे आम।

करती दिनभर रखवाली,

मिला तभी तो पके आम।

-अनिता चन्द्राकर

मीठे आम

Poem On Aam

सुन्दर, सुन्दर मीठे आम

अच्छे, अच्छे, प्यारे आम

नहीं आम-सा कोई फल

खाओ इन्हें न छोड़ो कल

पके, गले, मुस्काते आम

मिलते ढेरों सस्ते आम

लगड़ा, सेंदुरिया-मद्रासी

बम्बइया, तुकमी, बनारसी

रस से भरे दशहरी आम

खाओ अभी छोड़ सब काम

बुला रहे आमों के बाग

बीने इनको तड़के जाग

महकें बहुत सफेद आम

बच्चे देख रहे जी थाम

कोयल कूके अम्बुआ डाल

आम तोड़कर धर दें पाल

खाते नित जो प्यारे आम

वे पाते फल चारों धाम

कौन नहीं जो खाता आम

किसे नहीं है भाता आम

तृप्ति और सुख मिले तमाम

तेरे सुने हजारों नाम

सुन्दर, सुन्दर मीठे आम

अच्छे, अच्छे प्यारे आम

-डॉ. चक्रधर नलिन

आम

Poem On Aam

मेरा प्रिय फल है आम

फलों का राजा है आम

कितना मीठा और रसीला आम

मुझे ताज़गी देता आम।

पीला, हरा, लाल आम

सफ़ेदा, लंगड़ा, सिंदूरी आम

आँखों की ज्योति बढ़ाये आम

पेट के लिए भी अच्छा आम।

अचार बनाने के आये काम

जाने कितना इसका दाम

मेरे लिए अनमोल है आम।

-अनिकेत सहगल

आम

Poem On Mango In Hindi

गरमी में जब आता आम,

हमें बहुत ललचाता आम।

तोतापरी और दशहरी,

तरह-तरह के इसके नाम।

कुछ होते हैं बहुत महँगे,

कुछ के होते सस्ते दाम।

सोनू, मोनू, आओ भैया,

मीठे-मीठे खाओ आम।

फलों का राजा कहलाता,

दुनिया में है इसका नाम।

-बलदाऊ राम साहू

आम

Poem On Mango In Hindi

होते बड़े रसीले आम,

होते ज़रा हठीले दाम।

अपनी सोहबत में देते,

खुशबू रस के टीले आम।

दिखलाते हैं जलवे खूब

हरे गुलाबी पीले आम।

पेटी में अल्फांसो आम,

खुल्ले बिके लजीले आम।

आम के दीवाने बोलें

केसर रंग सजीले आम।

सभी फलों पे करते राज,

रस से भरे रसीले आम।

-महेंद्र कुमार वर्मा

मीठे आम

Poem On Mango In Hindi

सुन्दर, सुन्दर मीठे आम,

अच्छे, अच्छे प्यारे आम।

नहीं आम सा कोई फल,

खाओ इन्हें, न छोड़ो कल।

पके, गले मुस्काते आम,

मिलते ढेरों सस्ते दाम।

लंगड़ा, सेंदुरिया, मद्रासी,

बम्बइया, तुकमी, बनारसी।

रस से भरे दशहरी आम,

खाओ अभी छोड़ सब काम।

बुला रहे आमों के बाग,

बीनें इनको लड़के जाग।

महके बहुत सफेदा आम,

बच्चे देख रहे जी थाम।

कोयल की अमवा की डाल,

आम तोड़कर धर लें पाल।

कौन नहीं जो खाता आम,

किसे नहीं भाता है आम।

तृप्ति और सुख मिले तमाम,

तेरे सुने हजारों नाम,

सुन्दर, सुन्दर मीठे आम।

-चक्रधर नलिन

आम

Poem On Mango

फलों का राजा आया आम,

सभी के मन को भाया आम।

सोनी-मोनी, छोटू-गुल्लू,

सभी ने मिलकर खाया आम।

-गोविंद भारद्वाज

फलों का राजा

Aam Par Kavita In Hindi

आम फलों का राजा,

बस मुंह में तू आजा।

मीठा ताजा लाओ,

काट-चूसकर खाओ।

लंगड़ा, दशहरी, चौसा,

एक-दूसरे के मौसा।

बस बगीचा जाने में,

मजा आता खाने में।

आम देख ललचाता,

बच्चों को यह भाता।

-सूर्यदीप कुशवाहा

आम रसीले पके हुए

Poem On Mango In Hindi

आम रसीले पके हुए,

हैं ठेले पर सजे हुए।

कुछ पीले कुछ हरे-हरे,

हैं डलिया में खूब भरे।

लाल-लाल कुछ सिन्दूरी,

भरी टोकरी टोकरी भी पूरी।

तुखमी, फजरी व लंगड़ा,

और सफेदा बड़ा-बड़ा।

बनारसी, मलिहाबादी,

इनको ही खातीं दादी।

बागों में आते तोते,

कुतर-कुतर खाते तोते।

सभी फलों का राजा है,

इससे बनता माजा है।

सोनू मोनू अब आओ,

पके आम सब ले जाओ।

चूस चूस इनको खाओ,

और आम के गुण गाओ।

घर आयें ‘अन्जान’ कभी,

उन्हें खिलाना आम तभी।

-बेनीराम ‘अन्जान’

आम

Aam Par Kavita

स्वाद मे खट्टा मीठा आम

बात है इसमे कोई खास

हर कोई देख इसे ललचाये

बिन खाये फिर रह ना पाये

गर्मी के मौसम मे आता

फलों का राजा कहलाता

बागों के आम

Poem On Mango In Hindi

एक बड़ी टोकरी में लेकर,

कई तरह के आम।

आये जुम्मन चाचा,

उनसे पूछ रहे सब दाम।

चौसा, बम्बैया,

दशहरी और बनारसी लंगड़ा।

खाकर इन्हें नहीं होता,

कभी किसी से झगड़ा।

जुम्मन चाचा जोर-जोर से,

नारा यही लगाते।

कजरी सुना-सुना कर,

लोगों की भीड़ जुटाते।

पलक झपकते बिक जाते हैं,

सभी रसीले आम।

आम खिलाना शौक है उनका,

नहीं ऐंठना दाम।

पुरखे उनके लगा गए हैं,

ढेरों बाग-बगीचे।

जुम्मन चाचा उन बागों को,

बड़े प्यार से सींचे।

सात समंदर पार भी जाते,

इन बागों के आम।

दुनिया सारी जान रही,

जुम्मन चाचा का नाम।

-श्रवण कुमार सेठ

आम रसीला

Aam Par Kavita In Hindi

देखो कितना आम रसीला,

छिलका इसका पीला-पीला।

देखो कितना आम रसीला,

छिलका इसका पीला-पीला।

लगता कितना ताज़ा है,

आम फलों का राजा है।

लगता कितना ताज़ा है,

आम फलों का राजा है।

बच्चों का प्यारा आम

Poem On Mango

सुन्दर आम फलों का राजा

खट्टा मीठा खुब भाता

हरा पीला खुब है जचता

बच्चों का ये प्यारा आम।

फलों का इसे कहते राजा

पौष्टिकता से भरा परा

सुगंध से मन भर जाता

खाने को मन ललचाता।

आम के सामने सब फिका,

मिठाई मधुर सब बेकार

कोई न चाहता उसे

आम पर सब दौड़ लगाता।

आम है फलों का राजा।

-संगीत कुमार

हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह 15+ सुंदर आम पर कविता – Poem On Mango In Hindi पसंद आई होगी, इन्हें आगे शेयर जरूर करें। आपको यह कैसी लगी, हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

👉हमारे इस ज्ञान की नगरी वेबसाइट पर बेहतरीन हिंदी कविताएँ का संग्रह उपलब्ध कराया गया है, आप जों कविताएं पढ़ना चाहते हैं यहां क्लिक कर पढ़ सकते हैं –

हिन्दी कविता

नया साल 2022 गणतंत्र दिवस सरस्वती वंदना
सरस्वती माॅं विद्यालय प्रेरणादायक कविता
होली पर्व शिक्षक दिवस हिन्दी दिवस
प्यारी माॅं प्रकृति पर्यावरण
स्वतंत्रता दिवस देशभक्ति वीर सैनिक
अनमोल पिता सच्ची मित्रता बचपन
चिड़िया रानी नदी चंदा मामा
सर्दी ऋतु गर्मी ऋतु वर्षा ऋतु
वसंत ऋतु तितली रानी राष्ट्रीय पक्षी मोर
राष्ट्रीय फल आम कोयल फूल
पेड़ सूर्य बादल
दीप उत्सव दिवाली बंदर पानी
योग दिवस रक्षाबंधन चींटी रानी
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी लाल बहादुर शास्त्री किसान
मजदूर दिवस प्यारी बेटी बाल दिवस
गंगा नदी शिक्षा गाॅंव
नारी शक्ति गौरैया अनमोल समय
जाड़ा दादाजी दादी मां
किताब बाल कविता बालगीत
रेलगाड़ी Class 1 Class 2
Class 3 Class 4 Class 5

Leave a Comment

close