37+ मित्रता पर दिल छूने वाली कविताऍं | Poem On Friendship In Hindi

“सच्ची दोस्ती से ज्यादा कीमती चीज इस धरती पर कोई नहीं है।” अगर आपके पास सच्चा दोस्त है, तो वह आपके हर सुख-दुख में आपका साथ देगा। आपको कोई परेशानी होगी तो वह उसे दूर करने के लिए सही सलाह देगा, उसे दूर करने की कोशिश करेगा। अगर आप गलत रास्ते पर जा रहे हों यानी कोई ऐसा काम करने जा रहे हों, जो उचित नहीं है तो वह आपको ऐसा करने से रोकेगा और आपको सही और उचित रास्ते पर ले जाएगा। उससे हम अपने मन की बात खुलकर शेयर कर सकते हैं, इसलिए जिसके पास सच्चा दोस्त है, वह जीवन में कभी भटक नहीं सकता। इस जरूरी बात को आप हमेशा ध्यान में रखिए।

माता-पिता और गुरु के बाद हमारे जीवन में जिसका सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है, वह है हमारा मित्र। तो आइए इस खास मौके पर हम यहां पर सच्ची मित्रता पर सुंदर कविता (Poem On Friendship In Hindi) लेकर आएं हुए हैं।

 

poem-on-friendship-day-in-hindi

 

मेरे दोस्त

Poem On Friendship

 

दोस्ती तेरी मेरे यार,

मुझे जान से प्यारी है।

तेरा साथ रहे जीवन में,

तो लगे जैसे सारी खुशियाँ हमारी है।

 

तेरी एक हंसी के लिए मेरे दोस्त,

तोड़ लाऊँ मैं आसमाँ से तारे भी।

क्योंकि तेरी खुशियाँ से ही,

ये दुनियाँ हमारी है।

 

तू कह दे तो हवाओं का रुख मोड़ दूँ,

तू कह दे तो तूफानों को भी रोक हूँ।

तुझ पर तो कुर्बान,

ये जान हमारी है।

 

तेरा हर ख्वाब पूरा करने को,

मैं पूरी जिंदगी बिता दूँ।

दिल कहता है तेरी जिंदगी को जन्नत बना दूँ,

तेरे लिए ही बनी ये जवानी हमारी है।

 

तू है तो मेरे दोस्त सब कुछ है,

तू नही तो कुछ भी नही।

तुझसे ही शुरू तुझसे ही खत्म,

ये जिंदगी हमारी है।

-निधि अग्रवाल

 

मित्र ही सबसे अच्छा

Friendship Day Poem In Hindi

 

एक अनोखा रिश्ता ऐसा,

मिल उत्साह जगाता।

बंधु, सखा, सहपाठी सच्चा,

मित्र ही सबसे अच्छा।।

 

कभी लगे वो टीचर जैसा,

हिंदी, गणित पढ़ाता।

गायक जैसे गीत सुनाए,

मेरे मन को भाता।।

 

भैया जैसे डांट पिलाए,

झट से गले लगाता।

दीदी बनकर कान खींचता,

स्नेह, प्रेम छलकाता।।

 

जब भी कभी दुखी होता मन,

खेल छोड़कर आता।

स्वांग रचाए अजब-गजब से,

मुझको खूब हंसाता।।

 

गलती मुझसे जब हो जाती,

माफ सदा कर देता।

मेरा दोस्त बड़ा ही प्यारा,

कभी नहीं कुछ लेता।।

 

धन्य भाग्य जो तुम मिल पाए,

संग हमेशा रहना।

मेरी कमियों को बतलाया,

धन्यवाद है कहना।।

-प्रीति प्रवीण खरे

 

दोस्ती

Poem On Friendship In Hindi

 

जात-पात न देखे दोस्ती,

ऊंच-नीच ना माने दोस्ती।

सब रिश्तों से प्यारा रिश्ता,

दोस्ती का हमारा रिश्ता।

 

जब मैं हंसता, दोस्त भी हंसता,

जब मैं रोता, वह भी रोता।

सुख-दुख में हम साथ ही रहते,

वादा खिलाफी कभी न करते।

 

दोस्ती का हम पाठ हैं पढ़ते,

जीवन पथ पर आगे बढ़ते।

नहीं कभी आपस में लड़ते,

दोस्ती की हम मिसाल हैं गढ़ते।

-प्रीतम कुमार

 

सच्चे मित्र

Poem On Friendship In Hindi

 

जिनसे हम मन की बात कहें,

हर मुश्किल में जो साथ रहें।

हाथों में जिनके हाथ रहें,

वे सच्चे मित्र हमारे हैं।

 

हमको प्राणों से प्यारे हैं,

अच्छी बातें बतलाते हैं।

संकट में साथ निभाते हैं,

जो सही राह दिखलाते हैं।

 

वे बच्चे दोस्त हमारे हैं,

हमको प्राणों से प्यारे हैं।

चुगली की जिनमें नहीं ललक,

कुछ कह दो, रखते अपने तक।

 

जिनकी है सोच सकारात्मक,

वे अच्छे फ्रेंड हमारे हैं।

हमको प्राणों से प्यारे हैं।

-सूर्यकुमार पांडेय

 

सच्चा मित्र

Poem On Friendship In Hindi

 

न कोई उससे रिश्तेदारी,

न करता संपत्ति में भागेदारी।

देता है अच्छी रायशुमारी,

कृष्ण सुदामा जैसी यारी।।

 

जो आँखों में बसता है,

सच्चा मित्र वही होता है।

देखते जिसे हो जाए हर्ष,

जो चाहे सदा मेरा उत्कर्ष।।

 

करता हो मुझसे विमर्श,

विवेक से देता हो निष्कर्ष।

प्रतिपल साथ खड़ा रहता है,

सच्चा मित्र वही होता है।।

 

तृण भर न हो उसे अभिमान,

वह हो एक नेक इंसान।

रखता सदा मित्र का मान,

रिश्तों में न हो वो बेईमान।।

 

हर कदम मिलाकर चलता है।

सच्चा मित्र वही होता है।

कष्ट पड़े तो आए काम,

सच्चे मन से वह दे अंजाम।।

 

आगे पीछे न देखे परिणाम,

न चाहे करना वह नाम।

जो सत्पथ को दिखलाता है,

सच्चा मित्र वही होता है।।

 

जो करता हो पूर्ण समर्पण,

जीवन उसका हो इक दर्पण।

व्यक्तित्व में दिखे आकर्षण,

वक्त आने पर न बने कृपण।।

 

जो दिल में घर कर जाता है,

सच्चा मित्र वही होता है।

नही करे कोई प्रतिकार,

आँखों में दिखे उसके प्यार।

 

कभी नही बने होशियार,

मेरे जीवन में लाए निखार।

जो जीवन में रंग भरता है,

सच्चा मित्र वही होता है।।

-लाल देवेन्द्र कुमार

 

मित्र बनाओ कर्ण सा

Poem On Friendship In Hindi

 

मित्रता से बढ़कर दुनिया में,

कोई दास्तान नहीं होती।

जिंदगी में मित्रता कभी,

किसी की गुलाम नही होती।।

 

मित्र बनाओ कर्ण सा,

जो सदा ही साथ निभाता है।

हार सुनिश्चित देख कर भी,

उसे जान की परवाह नहीं होती।।

 

दोस्ती किसी अरमान से,

कभी कम नहीं होती।

दोस्ती कभी किसी मुस्कान से,

कम नहीं होती।।

 

ये तो अपना-अपना,

समझने का नजरिया है यारों।

वरना सच्ची दोस्ती भी किसी,

भगवान से कम नहीं होती।।

 

कहने वालों की भी जमाने में,

जुबान नहीं होती।

वरना दुनिया में दोस्ती,

कभी बदनाम नहीं होती।।

 

कृष्ण ओर सुदामा की मित्रता,

संसार में विख्यात है।

सुदामा के लिए मित्रता,

कृष्ण के वरदान से कम नहीं होती।।

 

कामयाब भी तो होते हैं,

यारो कई इस जमाने में,

मगर हर बुलंदी कभी भी,

आसमान नहीं होती।।

 

हो सकता है दुश्मनी भी,

मुमकिन हो इस जमाने में,

मगर सच्ची दोस्ती भी,

इतनी आसान नहीं होती।।

 

सच्ची दोस्ती अगर मिल जाए,

इस जमाने में,

फिर दोस्ती से बढ़कर,

कोई पहचान नहीं होती।।

-सीताराम पवार

 

poem-on-friendship-day-in-hindi

दोस्ती का रिश्ता

Poem On Friendship In Hindi

 

कहते हैं कि दोस्ती का रिश्ता,

बड़ा ही खूबसूरत होता है।।

अगर दोस्ती ही बेवफा हो जाये,

तो यही रिश्ता सबसे बदसूरत होता है।।

 

दो दोस्त अगर बिछड़ जाये,

तो ज़िन्दगी वीरान होती है।।

दोस्ती दो दिलों को जोड़ती है

वो बड़े से बड़े दुःख का असर तोड़ती है।।

 

दोस्तों हमेशा बांध कर रखना दोस्ती प्रेम की डोर से,

क्योंकि दोस्ती के रिश्ते का कोई मोल नहीं होता है।।

अकेले में दोस्त ही काम आता है,

खुशी में भी दोस्ती के साथ हाथों में जाम आता है।।

 

दोस्त को कभी न खोना तुम,

हमेशा दोस्त को दिल में बसाना तुम।।

-निखिल सिंह

 

मित्र मेरे अनमोल

Poem On Friendship In Hindi

 

तुम दोस्त नहीं भाई हो मेरे,

तुम साथी नही साए हो मेरे।

तुम बिन! अधूरा सा हूं मैं,

तुम अनकहे राज हो मेरे।

 

जिंदगी के दौर में जब,

सारे रिश्ते थक जायेगे।

धीरे-धीरे सारे अपने,

अपने आप बदल जायेगे।

 

तुम उस पल मेरे पास रहना,

मेरे हर सुख दुख में साथ देना।

यही एक रिश्ता है अनोखा,

जिसे हमने खुद बनाया है।

 

तुमसे प्यारा कोई नही,

मैं तेरे बिन कुछ भी नहीं।

तुम बनना सखा मेरे कृष्ण से,

मैं सुदामा सा प्यार लुटा दूंगा।

 

महसूस न हो कोई कमी तुम्हे,

जरूरत पड़े जिंदगी की ए दोस्त,

हंसते-हंसते ये जीवन भी लुटा दूंगा।

-अनुज पटेरिया

 

दोस्त- एक हीरा

Poem For Best Friend In Hindi

 

दोस्त से बढ़कर इस धरती,

पर है कोई श्रृंगार नहीं।

सच्चा दोस्त अगर मिल जाए तो,

जग में फिर हार नहीं।

 

दोस्त है मोती, माणिक, हीरा,

आभूषण भी बन जाता है।

सच्चा दोस्त अगर मिल जाए,

जीवन सुखमय हो जाता है।

 

सारे मजों की दवा दोस्त है,

हर रोग को दूर भगाता है।

सच्चा दोस्त अगर मिल जाए तो,

जीवन निरोग हो जाता है।

 

निर्धन ब्राह्मण को मिला दोस्त तो,

जीवन का कल्याण किया।

केशव जैसा मिला दोस्त तो,

भव सागर से पार किया।

 

राम ने लंका विजय हेतु,

सुग्रीव को दोस्त बनाया था।

सुग्रीव ने अपना फर्ज निभा,

लंका पर विजय दिलाया था।

 

विभीषण भी राम की शरण में आ,

दोस्त का फर्ज निभाया था।

लंका पर विजय दिलाने में,

कदम से कदम मिलाया था।

 

मैंने भी अपने जीवन में,

मित्रों को सम्मान दिया।

सच्चे मित्र मिले मुझको,

जीवन भर मुझको प्यार दिया।

 

पथिक भी अपने मित्रों का,

हर पल अभिनन्दन करता है।

सच्चा मित्र अगर मिल जाए तो,

रज को भी चन्दन करता है।

-विद्या शंकर अवस्थी

 

असली मित्र

Poem For Best Friend In Hindi

 

मित्रता की बात।

वर्षों की याद।।

करते हम सब साथ।

यह वक्त की हालात।।

 

कर्ण, दुर्योधन का साथ।

कृष्ण सुदामा की बात।।

पुराना इतिहास।

याद करते हम सब साथ।।

 

बड़े से बड़े कष्ट।

मिलकर हटाते हर वक्त।।

मित्र का व्यवहार।

मीठी बातो से कम होती भूख।।

 

पथ पर आने वाली सब बाधा।

कम करते अपने साथी।।

हठ भी पूरा करते हम सबके।

असली मित्र विपत्ति में काम आते हैं।।

-मिथिलेश कुमार सिंह

 

poem-on-friendship-day-in-hindi

परम मित्र

Poem For Best Friend In Hindi

 

मेरे परम मित्र,

तुम मुझसे मिलने आना।

भूली-बिसरी खुशियों भरी यादें,

साथ लेकर आना।

 

अतीत के सुंदर दिनों में जिएंगे,

मत बनाना कोई बहाना।

भगवान श्री कृष्णा और

सखा सुदामा-सी मित्रता की मिसाल,

जमाने को है दिखाना।

 

तन -मन, उम्र से कमजोर हो चुका है,

तुम आकर के हौसला बढ़ाना।

हंसी, खुशी, उमंग-तरंग के स्वप्न,

आकर सजाना।

 

जब आओ मित्र, फुर्सत में,

बहुत सारा समय लेकर आना।

हमारी मित्रता, सदैव कसौटी पर खरी उतरी है,

अब तुम आना, जरूर आना।

 

परम मित्र, मधुर यादों भरा,

खजाना लेकर आना।

बतिआएंगे, साथ बैठकर,

कुछ खाना और मुस्कुराना।

 

प्रभु का बुलावा न जाने कब आ जाए,

तुम उससे पहले मिलने आना।

अपने मित्र को गले लगाना, परम मित्र,

अपनी मित्रता को ना भूलाना।

 

तुम्हारे आने से जीवन सफर लगेगा सुहाना,

मित्र जल्दी से जरूर आना।

-डॉ शशिकला अवस्थी

 

मेरा यार है तू

Hindi Poem On Dosti

 

मेरे होंठो की हँसी है तू,

गालों की रौनक है तू।

हमारी मधुर मिठास में,

मेरा यार है तू।।

 

बचपन की शरारते तू,

लोरी की बातें है तू।

बहुत याद करता हूँ मैं,

मेरा यार है तू।।

 

हमराही, हमसफर है तू,

जिंदगी में चहुँओर है तू।

थामे हाथ हरदम हूँ मैं,

मेरा यार है तू।।

 

निशदिन उन्नति करें तू,

हर सफलता पाये तू।

हर पल करेंगे हम दुआ,

मेरा यार है तू।।

 

मेरी हर खुशी में तू,

तेरी मेरी हँसी में तू।

मित्रता दिवस की शुभकामनाएं,

मेरा यार है तू।।

-विनोद परिहार शुभ

 

सच्ची दोस्ती

Hindi Poem On Dosti

 

दोस्ती है अनमोल रत्न;

नहीं तोल सकता जिसे कोई धन,

सच्ची दोस्ती जिसके पास है;

उसके पास दौलत की भरमार है,

न ही जीत न ही कोई हार है,

दोस्त के दिल में तो

बस प्यार ही प्यार है।।

 

भटके जब भी दोस्त

संसार के मोहजाल में,

खींच लाता है सच्चा दोस्त,

उसे अच्छाई के प्रकाश में,

छोड़ देता है जग सारा

जब मुश्किल भरी राह में,

सच्चा दोस्त साथ देता है

तब जिंदगी की राह में।।

 

बने चाहे दुश्मन क्यों न जमाना सारा,

सच्चा दोस्त साथ देता है सदा हमारा,

दोस्त के लिए कुर्बान होता है जीवन सारा,

हर मुश्किल में बनता है वो सहारा।।

 

सच्ची दोस्ती को वक्त परखता हर बार है,

वक्त की हर परीक्षा से हसते हुए

पास करना ही दोस्ती की पहचान है,

दुनिया की किसी शौहरत की न जिसे दरकार है,

सच्चा दोस्त रखने वाला संसार में सबसे धनवान है।।

-वन्दना शर्मा

 

दोस्ताना

Poem On Friendship Day

 

दोस्ती तो यारा करना ज़रूरी है,

दोस्ती के बिना ये ज़िंदगी अधूरी है।

दोस्त हों अच्छे तो दोस्ती का मज़ा है,

दोस्ती न करो तो बड़ी सज़ा है।

 

दोस्ती में दोस्त के लिये सब कुछ करना चाहिए,

दोस्ती करने के लिए खुशी-खुशी जाइये।

दोस्ती का शब्द सचमुच हीरा है,

सबसे अच्छा दुनिया में बस दोस्त मेरा है।

-अजय साहू

 

हम हमेशा दोस्त रहेंगे

Heart Touching Poem On Friendship In Hindi 

 

हर खुशी तकलीफ साथ-साथ जीया करते थे,

हार हो या जीत एक दूसरे का साथ दिया करते थे,

कभी तुम हमसे कभी हम तुमसे रूठ जाया करते थे।

 

फिर हम तुम्हें और कभी तुम हमें मना लिया करते थे,

एक दूसरे की हम खुद से ज्यादा परवाह किया करते थे,

बस कल ही की बाद लगती हैं।

 

हम तुम अपनी दोस्ती पर कितना इतराया करते थे,

बस इस यकीन को हमेशा दिल में कायम रखेंगे,

जब भी दिल से पुकारोगे हमें अपने पास पाओगे।

-मैरी देबबर्मा

 

दोस्त

friendship day poem in hindi

 

दोस्त की दोस्ती से सदा,

दिल मेरा गुलजार होता है।

दोस्त के दूर रहने से सदा,

दिल ही दिल में वो रोता है।

 

दोस्त की दोस्ती से हरपल,

महकता गुलशन हमारा है।

मेरी मुश्किल में मेरे दोस्त ने,

सदा मुझको संभाला है।

 

सुनी हर बात मन की उसने जो,

किसी को सुनना ना गवारा था।

अपने दोस्त पर हमने तो सदा,

अपना सारा जीवन ये बारा था।

 

हुआ था खाक ये जीवन,

दोस्त ने मुझे जीना सिखाया है।

अंधेरों में भी दोस्त ने मुझे,

सदा रास्ता दिखाया है।

 

निस्वार्थ होकर सदा जो दोस्त,

अपने दिल की बात कहता है।

मेरा वो प्यारा दोस्त हर पल,

मेरे दिल के बहुत पास रहता है।

-विनीता कुशवाहा

 

दोस्ती

Mitrata Par Kavita

 

दोस्ती है एक खूबसूरत उपहार ईश्वर का,

जैसे माला में धागा और मनका।

दोस्ती रिश्ता है अपनेपन का,

अंधेरे में रोशनी की किरण का।

 

दोस्ती सूनेपन में संगीत भर दे,

मन को प्रीत से बंध दे।

जीवन में निराशा को दूर कर दे,

चहुं ओर खुशियां बिखेर दे।

 

दोस्ती का रिश्ता बनता विश्वास से,

जोड़ता है दिल को दिल से।

हर लेता परेशानी अपनी मुस्कान से,

नव ऊर्जा का संचार करे अपने साथ से।

 

होता है दोस्ती का अनमोल रिश्ता,

जिसको अच्छे से संभालना पड़ता।

एक रूठे तो दूसरे को मनाना पड़ता,

तभी तो जीवन सुखमय होता।

-सुषमा मालिक

 

ज़िन्दगी-यारों के साथ

Heart Touching Poem On Friendship In Hindi

 

न जाने क्यों होता है,

जिन्दगी में कई बार,

कुछ अजनबी बन जाते है,

जीवन नैया की पतवार,

हम फंस जाते हैं,

जब भी बीच मझधार,

दोस्त ही तो है,

जो लगाते हैं हमें सागर पार।।

 

हर सुबह से पहले,

होती है काली रात,

उन रातों में भी,

जो निभाते हैं हमारा साथ,

जब भी पाई है मैंने,

जीवन में कभी निराशा,

रखकर कांधे पर हाथ,

देते हैं जीने की नई आशा।।

 

सुख में मनाते हैं खुशियां,

तो दुःख में साथ निभाते भी है।

हंसते हैं साथ हमारे,

तो गम में संग रोते भी हैं।

हैं खुशनसीब वो लोग,

जिन्हे मिलता है ऐसा साथ।

फूल हो या कांटे जीवन में,

थामते है हर हाल में हमारा हाथ।।

 

जीवन की धूप में,

घना है साया

जग में कमाई हुई,

असली है माया।

तकलीफ़ में बिन बुलाए है आया

सुख में हमारे संग जो है मुस्कुराया।

मस्ती में जिसने खुशी का गीत है गुनगुनाया

हमने भी ऐसे ही दोस्तों का अनमोल साथ है पाया।

-सीमा मोरध्वज

 

मेरा सबसे अच्छा दोस्त

Heart Touching Poem On Friendship In Hindi

 

साथ हमेशा रहता है बनकर मेरा साया।

लगता है वह अपना सा नहीं है वह पराया।।

 

वह मेरा प्रिय सखा है मुझको वह समझता है।

मैं कहीं खो न जाऊं हर पल इससे डरता है।।

 

मेरा दोस्त भाई जैसा साथ हमेशा रहता है।

हम दोनों में भेद नहीं यही वो सबसे कहता है।।

 

दोस्त बहुत हैं मेरे पर वो मेरे मन को भाया।

लगता है वह अपना सा नहीं है वह पराया।।

 

हर छोटी बड़ी जरूरतों में साथ वो मेरा देता है।

मेरी सभी समस्याओं को अपनी समस्या कहता है।।

 

अपने सभी फैसलों में याद मुझे वह करता है।

मैं ही उसका प्रिय सखा हूँ सबसे यही कहता है।।

 

दोस्त बहुत है उसके भी पर मैं सबसे प्यारा।

लगता है वह अपना सा नहीं है वह पराया।।

-विक्रांत राजपूत

 

दोस्त

Funny Poem On Friendship In Hindi

 

दोस्त मिलते है क्यों,

बिछड़ने के लिए?

क्यों नहीं संग रहते,

ये उम्र भर के लिए?

 

साथ जब होते है तो लगती है,

बड़ी प्यारी ये जिंदगी,

दूर होने पर,

सीने में मचलते रहते हैं।

 

यादें जाती नहीं भुलाने से,

बात-बात पर वो याद आते है,

मन तड़पता है उनसे मिलने को,

बहुत बेकरारी-सी होती है।

 

बिन कहें समझ लेते है,

वो मन की कुछ बातें,

बेचैनी का हिसाब,

हिचकियों से लगा लेते है।

 

नहीं करते परवाह,

वो नफे-नुकसान की,

अपनी बातों में वक़्त

ढेर सारा बीता देते है।

 

दोस्त मिलते है क्यों,

बिछड़ने के लिए?

-श्रीभगवान

 

सच्चे मित्र की पहचान

funny poem on friendship in hindi

 

जिससे मैं कर लूं मन की बात,

जो दे मेरा हर पल साथ।

विपरीत परिस्थितियों में ढाल बनकर,

खुली किताब जिसे मैं पढ़ कर।

 

दिल खोल कर रख दूं जिस पर,

विश्वास की पक्की डोरी में बंद कर।

ऐसे प्रिय मित्र का साथ पाकर,

मेरा जीवन हो गया साकार।

 

अच्छी संगत का बड़ा है मोल,

जिसका कोई नहीं है तोल।

जिंदगी की राह आसान हो जाए,

जब सच्चा हमदर्द दोस्त मिल जाए।

 

खाना-पीना और सैर सपाटा,

मित्रता में बस यही काम ना आता।

पक्की यारी वह कहलाती,

हर सुख दुख में जो साथ निभाती।

 

मन स्वभाव जिनसे मिल जाए,

वही हमारे यार हो जाए।

मित्रता में स्वार्थ और अहम का ना हो स्थान,

हमेशा रखना सभी यह ध्यान।

-अनुभि माहेश्वरी राठी

 

बचपन के पल

Dosti Par Kavita In Hindi

 

कुछ पल की बातें,

कैसे दोस्ती में बदल गई पता नहीं चला।

कुछ हंसाने कुछ तराने याद आते है,

तेरे साथ बिताए हुए सारे पल याद आते।

 

ए दोस्त मैं जब तेरे साथ होता था,

तो पता नहीं कब सुबह से शाम हो जाती थी।

अब हर पल ऐसा लगता है ए दोस्त,

जैसे समय रुक सा गया है।

 

राह में चलते चलते मंजिलें तो मिल गई,

लेकिन तेरी दोस्ती छूट गई।

बचपन में देखे गए ख्वाब सब पूरे हो गए,

लेकिन तेरे बिना सब अधूरे से लगते है।

 

ए मेरे दोस्त एक बार फिर लोट आ,

फिर से वो बचपन के पल जीते है।

-नरेंद्र वर्मा

 

तेरी याद सताती है

Dosti Poetry In Hindi 

 

तेरी याद सताती है,

मुझको बहुत रुलाती है,

बचपन की जो बीती बातें हैं,

वो मुझको बहुत तड़पाती हैं।

 

बचपन का वक़्त कितना सुहाना था,

जिसमें तेरा मेरा प्यारा दोस्ताना था,

साथ हँसना खेलना और घूमना था,

साथ में ही हमेशा लिखना पढ़ना था।

 

प्यार हमारा आपस में बहुत ही था,

कोई लड़ाई झगड़ा बिल्कुल भी न था।

पर अचानक से ये क्या तुझे हो गया,

जो कभी सोचा न था वो हो गया।

 

कैंसर ने तुझे मुझसे जुदा कर दिया।

मुझे इस जहाँ में अकेला कर दिया।

ईश्वर न जाने क्यों मुझसे खफा हो गया,

ये जीवन जैसे इक सज़ा सा बन गया।

 

तेरे जैसा साथ न मुझे किसी से मिला,

तेरे बिन ये जीवन सदा तन्हा ही लगा।

बरसों बाद भी ये ज़खूम ताज़ा ही लगा,

जानलेवा ये रोग आखिर तुझे ही क्यों लगा।

-ज्योति एन भावनानी

 

Leave a Comment

close button